Zaggle IPO: पहले दिन निवेशकों का फीका रिस्पॉन्स, महज 19% सब्सक्राइब हुआ इश्यू

Zaggle Prepaid IPO: जैगल प्रीपेड ओशन सर्विसेज (Zaggle Prepaid Ocean Services) ने अपने आईपीओ के लिए 156 से 164 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड रखा है, जिसका लॉट साइज 90 शेयर है। कंपनी के इस आईपीओ को अब तक निवेशकों का फीका प्रतिसाद मिला है, क्योंकि यह मात्र 19% सब्सक्राइब हुआ है। इस आईपीओ में कुल 36.63 लाख शेयर बोलियां मिल गई हैं, जबकि ऑफर पर 1.93 करोड़ शेयर हैं। कंपनी इस IPO के माध्यम से 563.38 करोड़ रुपये जुटाना चाहती है, और निवेशकों के पास 18 सितंबर तक निवेश का मौका है। Zaggle Prepaid Ocean ने आईपीओ से पहले ही 23 एंकर निवेशकों से करीब 253.52 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं।

ParameterDetails
Bidding Dates14 Sep ’23 – 18 Sep ’23
Minimum Investment₹14,040
Lot Size90
Price Range₹156 – ₹164
Issue Size₹563.38 Crores

सब्सक्रिप्शन से जुड़ी डिटेल:

  • क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB): 0%
  • नॉन-इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स (NII): 11%
  • रिटेल इन्वेस्टर्स: 86%
  • टोटल: 19%

आईपीओ से जुड़ी डिटेल:

  • आईपीओ प्राइस बैंड: 156-164 रुपये प्रति शेयर
  • फेस वैल्यू: 1 रुपये प्रति शेयर
  • लॉट साइज: 90 शेयर
  • क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB): 75%
  • नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII): 15%
  • रिटेल निवेशक: 10%

कंपनी के बारे में डिटेल्स:

जैगल प्रीपेड ओशन सर्विसेज की शुरुआत 2011 में हुई थी, और यह बिजनेस-टू-बिजनेस-टू-कस्टमर सेग्मेंट में काम करती है। यह SaaS (सॉफ्टवेयर ऐज ए सर्विस) के जरिए प्रीपेड कार्ड्स और एंप्लॉयी मैनेजमेंट से खर्च के मैनेजमेंट का कंबाइंड सॉल्यूशन प्रदान करती है। यह एप्लॉयी टैक्स बेनेफिट्स, एक्सपेंस मैनेजमेंट, कॉरपोरेट गिफ्टिंग, और रिवार्ड्स और रिकग्निशन प्रोग्राम्स के लिए डिजिटल सॉल्यूशन प्रदान करती है। इसके पास जून 2022 तक 1896 ग्राहक और 19.82 लाख यूजर्स हैं।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp and Telegram Channels 🚀 Subscribe today | Stay updated with the latest IPO insights!" Follow on Whatsapp! and Join Telegram!

निवेशकों का रुझान कम:

इस IPO के पहले दिन के सब्सक्राइबिंग के आंकड़ों के मुताबिक, Zaggle Prepaid Ocean Services के IPO का प्रतिसाद मात्र 19% है, जोकि एक उतार-चढ़ाव से भरपूर है। यह दिखाता है कि निवेशक इस IPO को अभी तक अधिक अंधाधुंध सब्सक्राइब नहीं कर रहे हैं।

जैगल प्रीपेड ओशन सर्विसेज (Zaggle Prepaid Ocean Services) की आर्थिक स्थिति का विश्लेषण करने के लिए इन फाइनेंशियल आंकड़ों को देखते हैं:

Revenue (राजस्व):

  • 2021: 240 करोड़ रुपये
  • 2022: 371 करोड़ रुपये
  • 2023: 553 करोड़ रुपये

जैसा कि इन आंकड़ों से पता चलता है, कंपनी का राजस्व साल-ब-साल बढ़ रहा है, जिससे यह प्रमोट करता है कि वे अपनी व्यवसायिक गतिविधियों को बढ़ा रहे हैं और बाजार में अच्छे से प्रदर्शन कर रहे हैं।

Total Assets (कुल संपत्ति):

  • 2021: 62.08 करोड़ रुपये
  • 2022: 92.65 करोड़ रुपये
  • 2023: 235 करोड़ रुपये

कुल संपत्ति में वृद्धि भी दर्शाती है, जो कंपनी की स्थिरता और विकास का संकेत हो सकती है।

Profit (लाभ):

  • 2021: 19.33 करोड़ रुपये
  • 2022: 41.92 करोड़ रुपये
  • 2023: 22.90 करोड़ रुपये

कंपनी का लाभ वर्षों के बीच अद्यतित है, लेकिन 2022 में एक उच्च बिक्री और लाभ की वृद्धि के बाद 2023 में एक कम लाभ का अनुमान है।

इन आंकड़ों से पता चलता है कि कंपनी का वित्तीय स्वास्थ्य साल-ब-साल सुधर रहा है, लेकिन इसके बावजूद 2023 में कुछ लाभ कमी की ओर इशारा किया जा रहा है। निवेश करने से पहले यह महत्वपूर्ण होता है कि निवेशक कंपनी की आर्थिक स्थिति को समझें और सावधानी से निवेश का निर्णय लें।

कंपनी के प्रेस्पेक्टस और आरएचएस (रिस्क फैक्टर्स) को विश्वसनीयता से पढ़कर और एक वित्तीय सलाहकार से सलाह प्राप्त करके, निवेश की निर्णय लेने से पहले निवेशकों को सतर्क रहना चाहिए। IPO में निवेश करने से पहले विश्वसनीय निवेश सलाहकारों या फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स की सलाह लेना हमेशा समझदारी की बात होती है।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp Channels 🚀 Subscribe today by clicking the link and stay updated with the latest IPO insights!" Click here!

👉 IPO GMP || IPO News || IPO Details || IPO Review || Join Whatsapp Channel and read news related to IPO on Stockesta.com.
Disclaimer: The information provided on this website is for informational purposes only and should not be construed as financial or investment advice. Users are advised to do their own research and consult a qualified financial advisor before making any investment decisions.
What is an IPO?- Why Companies Go Public