India Shelter Finance: इंडिया शेल्टर फाइनेंस ने सेबी के पास ₹1,800 करोड़ के आईपीओ के लिए आवेदन किया

वेस्टब्रिज कैपिटल और नेक्सस वेंचर पार्टनर्स द्वारा समर्थित एक अफोर्डेबल हाउसिंग फाइनेंस कंपनी, इंडिया शेल्टर फाइनेंस(India Shelter Finance) ने आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) ने ₹1,800 करोड़ जुटाने के लिए भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के साथ प्रारंभिक कागजात दाखिल करके अपने विकास और विस्तार की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। यह कदम कंपनी के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है और निवेशकों के लिए देश में अफोर्डेबल हाउसिंग सेक्टर के विकास में भाग लेने का एक बड़ा अवसर प्रस्तुत करता है।

इंडिया शेल्टर फाइनेंस आईपीओ विवरण

आईपीओ में इंडिया शेल्टर फाइनेंस द्वारा ₹1,000 करोड़ के नए इक्विटी शेयर जारी करना शामिल है, साथ ही मौजूदा निवेशकों द्वारा ₹800 करोड़ की बिक्री की पेशकश भी शामिल है, जिसमें कैटलिस्ट ट्रस्टीशिप, मैडिसन इंडिया अपॉर्चुनिटीज IV, एमआईओ स्टाररॉक, नेक्सस वेंचर्स III और नेक्सस अपॉर्चुनिटी फंड II शामिल हैं। शुक्रवार को दाखिल किए गए ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) में आगे के लोन और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए फण्ड का उपयोग करने की कंपनी की योजना की रूपरेखा दी गई है।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp and Telegram Channels 🚀 Subscribe today | Stay updated with the latest IPO insights!" Follow on Whatsapp! and Join Telegram!

इंडिया शेल्टर फाइनेंस के प्रमुख शेयरधारक

30 सितंबर, 2021 तक, इंडिया शेल्टर फाइनेंस के शीर्ष 10 शेयरधारक:

  1. वेस्टब्रिज क्रॉसओवर फंड (24.89% इक्विटी)
  2. अरावली इन्वेस्टमेंट होल्डिंग्स (24.28% इक्विटी)
  3. नेक्सस वेंचर्स III लिमिटेड (22.84% इक्विटी)
  4. नेक्सस अपॉर्चुनिटी फंड II लिमिटेड
  5. माइलस्टोन ट्रस्टीशिप प्राइवेट लिमिटेड
  6. सिकोइया कैपिटल इंडिया ग्रोथ इन्वेस्टमेंट्स I
  7. सिकोइया कैपिटल इंडिया इन्वेस्टमेंट्स III
  8. स्टाररॉक
  9. अनिल मेहता
  10. मैडिसन इंडिया अपॉर्चुनिटीज IV

फंडरेजिंग का उद्देश्य

आईपीओ का प्राथमिक उद्देश्य भविष्य में लोन देने के लिए पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आवश्यक धनराशि सुरक्षित करना है। अपनी लोन देने की क्षमता का विस्तार करके, इंडिया शेल्टर फाइनेंस का लक्ष्य निम्न और मध्यम आय वर्ग के टियर II और टियर III शहरों में स्व-रोज़गार ग्राहकों को किफायती आवास समाधान प्रदान करने के अपने मिशन को आगे बढ़ाना है।

टारगेट सेगमेंट और भौगोलिक फोकस

इंडिया शेल्टर फाइनेंस ने स्व-रोज़गार क्षेत्र में पहली बार होम लोन लेने वालों को सर्विस देकर अपने लिए एक जगह बनाई है। टियर II और टियर III शहरों पर कंपनी का रणनीतिक फोकस वंचित क्षेत्रों की आवास आवश्यकताओं को संबोधित करने की उसकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है, जहां किफायती आवास विकल्प सीमित हैं। इन क्षेत्रों में संसाधनों को निर्देशित करके, इंडिया शेल्टर फाइनेंस का लक्ष्य आवास वित्त अंतर को पाटना और इच्छुक घर खरीदारों के बीच गृह स्वामित्व को बढ़ावा देना है।

विशेषज्ञ बुक-रनिंग लीड मैनेजर

एक निर्बाध आईपीओ प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, इंडिया शेल्टर फाइनेंस ने प्रमुख वित्तीय संस्थानों को बुक-रनिंग लीड मैनेजर के रूप में नियुक्त किया है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, सिटीग्रुप ग्लोबल मार्केट्स इंडिया, कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी और एंबिट को आईपीओ के प्रबंधन और निवेशकों के साथ समन्वय की महत्वपूर्ण भूमिका सौंपी गई है।

निष्कर्ष

इंडिया शेल्टर फाइनेंस का आईपीओ दाखिल करने का निर्णय कंपनी की मजबूत वृद्धि और भारत के वंचित क्षेत्रों में गृह स्वामित्व को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता का प्रमाण है। जैसे-जैसे किफायती आवास समाधानों की मांग बढ़ती जा रही है, आईपीओ निवेशकों को संभावित रूप से महत्वपूर्ण रिटर्न प्राप्त करते हुए कंपनी के मिशन में योगदान करने का एक रोमांचक अवसर प्रदान करता है। अपने रणनीतिक फोकस, अनुभवी प्रबंधन और विशेषज्ञ बुक-रनिंग लीड मैनेजरों के साथ, इंडिया शेल्टर फाइनेंस एक सफल आईपीओ के लिए तैयार है जो देश में किफायती आवास वित्त परिदृश्य को नया आकार दे सकता है। निवेशक इस परिवर्तनकारी यात्रा का हिस्सा बनने के लिए सेबी से अंतिम मंजूरी और उसके बाद स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध होने का उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp Channels 🚀 Subscribe today by clicking the link and stay updated with the latest IPO insights!" Click here!

👉 IPO GMP || IPO News || IPO Details || IPO Review || Join Whatsapp Channel and read news related to IPO on Stockesta.com.
Disclaimer: The information provided on this website is for informational purposes only and should not be construed as financial or investment advice. Users are advised to do their own research and consult a qualified financial advisor before making any investment decisions.
What is an IPO?- Why Companies Go Public