Hi-Green Carbon IPO: रॉकेट की स्पीड से बढ़ रहा मुनाफा, आज खुल गया आईपीओ

Hi-Green Carbon IPO: टायर रिसाईकिल करने वाली कंपनी हाई-ग्रीन कॉर्बन (Hi-Green Carbon) का आईपीओ आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गया है। इस IPO के तहत कंपनी ने 53 करोड़ रुपये के आईपीओ को लॉन्च किया है, और यह आईपीओ नए शेयरों के साथ-साथ ऑफर फॉर सेल (OFS) के तहत भी शेयरों की बिक्री का मौका प्रदान करेगा।

कंपनी के वित्तीय सेहत का जायजा लगाने पर पाया गया कि पिछले तीन वित्त वर्षों में Hi-Green Carbon का नेट प्रॉफिट रॉकेट की स्पीड से बढ़ रहा है, जो कंपनी के सूचना प्राप्त करने वाले निवेशकों के लिए एक आकर्षक निवेश का मौका प्रदान कर रहा है।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp and Telegram Channels 🚀 Subscribe today | Stay updated with the latest IPO insights!" Follow on Whatsapp! and Join Telegram!

ग्रे मार्केट में बात करते हुए, Hi-Green Carbon के शेयर इश्यू के अपर प्राइस बैंड से 50 रुपये, यानी 66.67 फीसदी की GMP (ग्रे मार्केट प्रीमियम) पर हैं। हालांकि मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक ग्रे मार्केट से मिले संकेतों की बजाय कंपनी के फाइनेंशियल्स और फंडामेंटल्स के आधार पर निवेश से जुड़ा फैसला लेना चाहिए।

Hi-Green Carbon IPO की डिटेल्स

हाई-ग्रीन कॉर्बन का 52.80 करोड़ रुपये का आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए 25 सितंबर तक खुला रहेगा। इस आईपीओ के तहत 71-75 रुपये के प्राइस बैंड और 1600 शेयरों के लॉट में पैसे लगा सकेंगे। इश्यू का आधा हिस्सा क्वालिफाईड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB) के लिए, 15 फीसदी नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII) के लिए, और 35 फीसदी खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित है। आईपीओ की सफलता के बाद शेयरों का अलॉटमेंट 28 सितंबर को फाइनल होगा और इसके बाद शेयरों की NSE SME पर 4 अक्टूबर को एंट्री होगी। इस आईपीओ के लिए रजिस्ट्रार लिंक इनटाइम है।

ParameterDetails
IPO DateSeptember 21, 2023, to September 25, 2023
Listing DateWednesday, October 4, 2023
Face Value₹10 per share
Price Band₹71 to ₹75 per share
Lot Size1600 Shares
Total Issue Size7,040,000 shares (aggregating up to ₹52.80 Cr)
Fresh Issue5,990,000 shares (aggregating up to ₹44.93 Cr)
Offer for Sale1,050,000 shares of ₹10 (aggregating up to ₹7.88 Cr)
Issue TypeBook Built Issue IPO
Listing AtNSE SME
Shareholding pre issue19,000,000
Shareholding post issue24,990,000
Market Maker portion420,800 shares

Hi-Green Carbon के बारे में

2011 में बनी हाई-ग्रीन कॉर्बन (पूर्व नाम शैंटोल ग्रीन हाइड्रोकॉर्बन्स) खराब हो चुके टायरों को रिसाईकिल करती है। इसका मैनुफैक्चरिंग प्लांट राजस्थान में है और यह पायरोलिसिस प्रोसेस के जरिए हर दिन 100 टन टायर को रिसाईकिल करने की क्षमता है।

कंपनी का प्रोडक्ट पोर्टफोलियो रिकवर्ड कॉर्बन ब्लैक (rCB) और स्टील वायर के साथ-साथ एनर्जी कंपोनेंट्स कैटेगरी में फ्यूल ऑयल और सिंथेसिस गैस बनाने की क्षमता को शामिल करता है। सिंथेसिस गैस का इस्तेमाल सोडियम सिलिकेट यानी रॉ ग्लास बनाने में भी होता है।

कंपनी की योजना में महाराष्ट्र में एक नया प्लांट लगाने की है, जिसकी क्षमता हर दिन 100 टन टायर रिसाईकिल करने की होगी। इस आईपीओ से मिले पूंजी का उपयोग इस योजना को साकार करने, वर्किंग कैपिटल की जरूरतों को पूरा करने, आम कॉरपोरेट उद्देश्यों को पूरा करने, और आईपीओ से जुड़े खर्चों को भरने में किया जाएगा।

कंपनी के वित्त वर्ष 2021 में इसे 9.59 लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ था, और अगले वित्त वर्ष में यह मुनाफा 3.68 करोड़ रुपये तक बढ़ गया, जबकि वित्त वर्ष 2023 में यह 10.85 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

Period Ended31 Mar 202131 Mar 202231 Mar 2023
Assets3,310.913,424.364,387.83
Revenue2,429.395,113.957,903.90
Profit After Tax9.59367.951,084.78
Net Worth806.281,174.232,259.02
Reserves and Surplus-1,093.72-725.77359.02
Total Borrowing1,783.101,586.701,362.19
Amount in ₹ Lakhs

आपके वित्तीय निवेशों के प्रति सतर्क रहने का सुझाव दिया जाता है, और निवेश के फैसले को विस्तार से विचार करने के लिए एक वित्त पेशेवर की सलाह लेना सुझावित है।

"Exciting news! Stockesta is now on WhatsApp Channels 🚀 Subscribe today by clicking the link and stay updated with the latest IPO insights!" Click here!

👉 IPO GMP || IPO News || IPO Details || IPO Review || Join Whatsapp Channel and read news related to IPO on Stockesta.com.
Disclaimer: The information provided on this website is for informational purposes only and should not be construed as financial or investment advice. Users are advised to do their own research and consult a qualified financial advisor before making any investment decisions.
What is an IPO?- Why Companies Go Public